यूट्यूब ने जारी किया नया फीचर, Short Videos बनाने पर क्रिएटर्स की होगी कमाई

0
6


Youtube Shorts for Creators: सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म यूट्यूब शॉर्ट्स बनाने वालों को भी अब कमाई करवाने की तैयारी कर रही है. यूट्यूब अपने अपने इस प्लेटफॉर्म पर लगातार काम कर रहा है और इसमें नए-नए फीचर जोड़ रहा है, ताकि कंटेंट क्रिएटर्स को भी मौका दे सके.

यूट्यूब का नया फीचर
वर्तमान में शार्ट वीडियोज की व्यूअरशिप लगातार बढ़ रही है. इसी को ध्यान में रखते हुए यूट्यूब ने अपने प्लेटफार्म के लिए YouTube Shorts के नाम से नया फीचर पेश कर दिया है. सोशल मीडिया यूजर्स शॉर्ट्स को देखने और बनाने में बाकी वीडियो से कहीं ज्यादा समय दे रहे हैं. यूट्यूब भी इस मौके को हाथ से नहीं जाने देना चाहता और खुद इससे रेवेन्यू लेने के साथ-साथ क्रिएटर्स को पैसे कमाने का मौका दे रहा है.

हाल ही में यूट्यूब ने YouTube Shorts पर एक नया फीचर ऐड किया है. जिसे अमेरिका में कुछ क्रिएटर्स द्वारा टेस्ट किया जा रहा है. इस नए फीचर की सहायता से यूजर यूट्यूब पर मौजूद किसी भी वीडियो में प्रोडक्ट को टैग कर सकते हैं. गूगल ने जारी किये बयान के मुताबिक अमेरिका, भारत, ब्राजील, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में मौजूद व्यूअर्स को टैग और इंटरैक्शन का विकल्प दिखाई देगा.

क्रिएटर्स कि ऐसे मिलेगा पैसा
हाल ही में यूट्यूब ने क्रिएटर्स कि रेवेन्यू में बढ़ोतरी करने के लिए एक और फीचर को शामिल किया है. जिसमें यूट्यूब पर अपलोड होने वाले शार्ट वीडियोज में ऐड देखने को मिलेंगे और इन विज्ञापनों का 45 प्रतिशत हिस्सा कंटेंट क्रिएटर्स को दिया जायेगा. यूट्यूब के इस नए फीचर से सभी वीडियो प्लेटफॉर्म के लिए एक कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी, खासकर टिकटॉक जैसे प्लेटफॉर्म से.

News Reels

टिकटॉक दे रहा कड़ी टक्कर
दुनिया के ज्यादातर देशों में बैन होने के बाद भी टिकटॉक शार्ट वीडियो के मामले में टिकटॉक का दबदबा कायम है. हालांकि शार्ट वीडियो को प्रसिद्ध दिलाने में टिक टॉक का सबसे ज्यादा योगदान रहा है. तमाम देशों से टिकटॉक बैन होने के बाद इंस्टाग्राम और यूट्यूब शॉर्ट्स को इसका लाभ मिला है, लेकिन जहां-जहां टिकटॉक अभी बैन नहीं है, वहां ये बाकी प्लेटफॉर्म को कड़ी टक्कर दे रहा है. यूट्यूब शार्ट वीडियोज को हाल ही में अपनी टीवी ऐप पर भी जोड़ चुका है.

यह भी पढ़ें-
Twitter के कर्मचारियों से लंच का पैसा भी वसूलेंगे मस्क, मुफ्त लंच पर हर साल लगभग 1 बिलियन रुपया होता था खर्च



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here